सावधान, एंटीबायोटिक दवाओं के गलत सेवन से मजबूत हो रहे हैं रोगाणु

तो क्या अब असर नहीं करेंगी एंटीबायोटिक दवाऐं ?

ज्ञानवर्धक व स्वास्थ्यवर्धक वीडियो देखने के लिये इस लिंक को क्लिक करें। साथ ही सबसे अलग व अनूठे इस चैनल को सब्स्क्राइब कर हमेशा सकारात्मक व जागरूक रहें।

एंटीबायोटिक दवाओं का दुरुपयोग घातक

सावधान, एंटीबायोटिक दवाओं के गलत सेवन से रोगाणु और मजबूत व शक्तिशाली हो रहे हैं। इससे उन पर एंटीबायोटिक दवाओं का असर कम हो रहा है। विश्व में हर 2.8 सैकेंड में एक मौत हो जाती है और एंटीबायोटिक दवाओं के दुरुपयोग से स्थिती और भी भयाभय हो सकती है यह जानकारी ग्वालियर बाल अकादमी के अध्यक्ष शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ रवि अम्बे ने  “एंटीबायोटिक दवाओं का दुरुपयोग घातक” विषय पर आयोजित लाइव वेबिनार में दी।

बच्चों के लिये एंटीबायोटिक दवा उनके वजन व बैक्टीरिया के स्वभाव के आधार पर तय करते हैं:- डॉ अजय गौड़

इसका आयोजन ग्वालियर बाल अकादमी व हैप्पीनेस एंड अवेयरनेस मिशन आंनद क्लब की ओर से एंटीमाइक्रोबायल अवेयरनेस वीक के तहत यूट्यूब चैनल पर किया गया। इसमें मुख्य अतिथि के रूप में जयारोग्य अस्पताल विभाग के शिशु रोग विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ अजय गौड़ ने कहा कि विशेषज्ञ चिकित्सक बच्चों के लिये एंटीबायोटिक दवा उनके वजन व बैक्टीरिया के स्वभाव के आधार पर तय करते हैं। 

5 वर्ष तक के बच्चों को वायरल डायरिया में एंटीबायोटिक दवाएं नहीं देनी चाहिये:- शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ सुहास धौंडे

वहीं विषाणु जनित कई रोग तो सामान्य दवा से ही ठीक हो जाते हैं। इसलिये हर बीमारी में एंटीबायोटिक दवा नहीं लेनी चाहिये। शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ सुहास धौंडे ने कहा कि 5 वर्ष तक की उम्र के बच्चों को वायरल डायरिया में एंटीबायोटिक दवाएं नहीं देनी चाहिये।

अनावश्यक सेवन से जीवाणुओं की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ जाएगी:- डॉ. घनश्याम दास

डायरिया का वैक्सीन अवश्य लगवाना चाहिये। वहीं बच्चे व बड़े सभी को लगातार हाथ धोते रहना चाहिये। इससे हम एंटीबायोटिक संक्रमण से भी बचे रहेंगे। डॉ. घनश्याम दास ने कहा कि हमारे पास एंटीबायोटिक सीमित हैं, इनके अनावश्यक सेवन से जीवाणुओं की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ जाएगी और एंटीबायोटिक दवा कमजोर हो जाएगी। 

विशेषज्ञ चिकित्सक की राय के बिना इनका उपयोग घातक:- डॉ. करुणेश पिपरिया

अकादमी सचिव डॉ. करुणेश पिपरिया ने कहा कि एंटीबायोटिक दवा तभी कारगर हैं, जब हम इसका उपयोग विशेषज्ञ चिकित्सक के परामर्श से करते हैं। विशेषज्ञ चिकित्सक की राय के बिना इनका उपयोग घातक है। कार्यक्रम का  संचालन हैप्पीनेस मिशन सचिव कृष्ना सिंह व  मिशन संस्थापक अंशुमान शर्मा ने आभार प्रकट किया।

सौजन्य से : अंशुमान शर्मा (हैप्पीनेस एंड अवेयरनेस मिशन)

error: